(बकस्वाहा) वन परिक्षेत्र में लग रहे ईट भट्टे
May 21, 2019 • Yogesh Sharma

छतरपुर। दूर की बात छोड़ें मुख्यालय से चंद किलोमीटर दूर स्थित वन क्षेत्र की भी विभाग द्वारा सुरक्षा नहीं की जा रही है। वन परिक्षेत्र में जमकर ईंट भट्टे लगाए जा रहे हैं।

ईटों को पकाने के लिए जंगलों को मैदान में बदला जा रहा है। वन विभाग के कर्मचारियों को जानकारी होने के बाद भी वे अनभिज्ञ बने हैं। यही वजह है कि जंगल मैदान में बदल रहे हैं।वन क्षेत्र हमा में ईंटों के भट्टे लगाए जा रहे हैं। सूत्र बताते हैं कि वन क्षेत्र से सटी अजुद्दी अहिरवार और मकुन्दी अहिरवार की जमीन है।

इनके द्वारा ही ईंटें तैयार कराई जा रही हैं। सूत्रों के मुताबिक वीरान सूरजपुरा मौजा भी सौंरा हल्का पटवारी से जुड़ा है। यहां के वन क्षेत्र में करोड़ों रुपए के ईंट भट्टे लगाए जा चुके हैं। सवाल यह है कि जंगल और जंगली क्षेत्र की रखवाली का दायित्व वन विभाग को दिया गया है तो विभाग के लोग क्या कर रहे हैं।

विभाग की लापरवाही और सांठ-गांठ के कारण ही जंगल मैदान में तब्दील होते नजर आ रहे हैं। ऐसा नहीं है कि ईंटों का कारोबार चंद दिनों में हुआ हो। ईंटें तैयार कराकर भट्टा लगाना और उसको पकाने के बाद बेचने में काफी वक्त लगता है मगर विभाग के लोग कुंभकर्णी नींद में सोए हुए हैं। वन विभाग के मुनारों के ठीक सामने ईंट भट्टे तैयार कराए जा रहे हैं।