बिलासपुर, १ करोड़ ११ लाख रुपए से बनेगा रेनवाटर हार्वेस्टिंग
June 15, 2019 • Yogesh Sharma

० एमआईसी की बैठक में दी गई स्वीकृति
० विकास कार्यों के विभिन्न प्रस्ताव को दी गई मंजूरी
बिलासपुर। १ करोड़ ११ लाख रुपए से निगम के विभिन्न स्कूल, कार्यालय व सामुदायिक भवनों में वाटर हार्वेस्टिंग का निर्माण होगा।

मेयर इन कौंसिल (एमआईसी) की बैठक में इसकी स्वीकृति दी गई। शुक्रवार की दोपहर ३ बजे मेयर किशोर राय की अध्यक्षता में एमआईसी की बैठक शुरू हुई। बैठक में एजेंडा क्रमांक १ से १६ तक में वार्ड क्रमांक १ से ६६ तक के प्राप्त सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजना, सुखद सहारा पेंशन योजना, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय पेंशन योजना, वृद्धा पेंशन योजना, राष्ट्रीय परिवार सहायता योजना के पात्र आवेदनों को स्वीकृति दी गई।

इसके बाद एजेंडा क्रमांक १७ से १९ में विभिन्न स्वीकृत कार्यों के स्थल परिवर्तन कर ४४ लाख रुपए से निगम के स्कूलों, कार्यालय, सामुदायिक भवनों में रैन वाटर हार्वेस्ंिटग निर्माण करने की मंजूरी दी गई। एजेंडा क्रमांक २० में होर्डिंग्स, डिवाइडर पोल व सचिल वाहनों में विज्ञापन के लिए विस्तृत अवलोकन व पुष्टि के लिए प्रस्ताव रखे गए। प्रस्ताव क्रमांक २१ में बस्तर दर्शन में उद्यान विकास, ग्रिल फाउटेन व सौदर्यीकरण की स्वीकृति दी गई।

प्रस्ताव क्रमांक २२ में पहल एनजीओ स्कूलों के प्रधानपाठकों से गुणवत्ता के अभिमत के आधार पर १६ जून २०१९ से १५ जून २०२० तक सेंट्रल कीचन चलाने की स्वीकृति दी गई। प्रस्ताव क्रमांक २३ व २४ में ३५२ कर्मचारियों ५९ दिवस के लिए कार्य की स्वीकृति दी गई। प्रस्ताव क्रमांक २५ में २५ नवीन नलकूप के लिए सबमर्सिबल पंप, मोटर पंप व पेनल की स्वीकृति दी गई।

प्रस्ताव क्रमांक २८ में मुख्यमंत्री पालिका बाजार योजना के तहत नूतन चैक पर सुव्यवस्थित कमर्शियल काम्प्लेक्स के विकास व निर्माण की स्वीकृति दी गई। इसी तरह प्रस्ताव क्रमांक २९ में छत्तीसगढ़ ठोस अपशिष्ट प्रबंधन नियम की जुर्माना सहित संपूर्ण जानकारी दी गई।

प्रस्ताव क्रमांक ३० में पूर्व के ऐसे कार्य जो विवाद अथवा किसी कारण से शुरू नहीं हो सके ऐसे ५ कार्यों के ६७ लाख रुपए से निगम के भवनों, उद्यान, शाला भवन, औषधालय, सामुदायिक भवनों, सार्वजनिक शौचालय में रैन वाटर हार्वेस्टिंग निर्माण करने की स्वीकृति दी गई। प्रस्ताव क्रमांक ३१ में शहर के ३१ शौचालय को रख-रखाव व संचालन के लिए राज्य परिवर्तित स्वच्छता श्रृंगार योजना अंतर्गत शासन को स्वीकृति के लिए भेजने की सहमति बनी।

प्रस्ताव क्रमांक ३२ में जल आपूर्ति कार्य के लिए २५ प्रतिशन राशि वृद्धि की स्वीकृति दी गई। एमआईसी की बैठक में जनप्रतिनिधियों द्वारा किए गए एजेंडा से संबंधित सवालों के जवाब कमिश्नर प्रभाकर पाण्डेय ने दिए। बैठक में एमआईसी सदस्य रमेश जायवाल, उदय मजुमदार, उमेशच्रद कुमार, श्याम साहू, राजकुमार पमनानी, बंशी साहू, प्रकाश यादव, श्रीमती उषा मिश्रा, श्रीमती ममता ताम्रकार, श्रीमती मधुबाला टंडन, श्रीमती अंजनी कश्यप व निगम के सभी विभाग प्रमुख उपस्थित थे।


तकनीकी स्वीकृति व टेंडर प्रक्रिया के लिए शासन को भेजा गया
मल्टीलेवल पार्किंग निर्माण के लिए तकनीकी स्वीकृति और टेंडर प्रक्रिया करने के लिए शासन को पत्र भेजने की स्वीकृति एमआईसी में दी गई। शासन से जल्द तकनीकी स्वीकृति मिलने की उम्मीद जताई जा रही है। इसके बाद निर्माण के लिए टेंडर जारी किया जाएगा।


जल विभाग के मरम्मत संबंधित सभी काम हो तीन दिनों के भीतर
बैठक के दौरान के दौरान जल आपूर्ति समस्या पर चर्चा की गई। इस दौरान जल विभाग ईई संजीव बृजपुरिहा ने ३९ वार्डों के १०९ नलकूप और निगम क्षेत्र के बाहर १९ नलकूप में पाइप बढ़ाने की जानकारी दी। इस दौरान सभी नलकूप में ७६० मीटर पाइप अतिरिक्त लगाने की बात कही गई।

इस दौरान मेयर किशोर राय ने जल आपूर्ति से संबंधित मरम्मत के कार्यों में लेटलतीफी करने की बात कहते हुए जमकर फटकार लगाई। मेयर श्री राय ने तीन दिनों के भीतर मरम्मत के सभी कार्य करने के निर्देश दिए। तीन दिनों के अंदर मरम्मत कार्य नहीं होने पर कड़ी कार्रवाई की करने की चेतावनी दी गई।